कार्यशाला की सुरक्षात्मक सावधानिया । Workshop Safety Precautions

परिभाषा- वर्कशॉप के अंदर होने वाली सामान्य व अन्य दुर्घटनाओं को रोकने के लिए जो सावधानियां रखी जाती है, उसे सुरक्षात्मक सावधानिया कहते हैं।

 सुरक्षात्मक सावधानिया पांच प्रकार की होती है 

  1. स्वयं की सुरक्षा  (Self Safety)
  2. औजारों की सुरक्षा (Tool Safety)
  3. मशीन की सुरक्षा (Machine Safety)
  4. विद्युत संबंधी सावधानियां (Electrical Safety)
  5. सामान्य सुरक्षा (General Safety)

 स्वयं की सुरक्षा(Self Safety) 

1. वर्कशॉप में कार्य करते समय जूतों का प्रयोग करना चाहिए। 
2. वर्कशॉप में कार्य करते समय ढीले कपड़े नहीं पहनने चाहिए, केवल टाइट यूनिफार्म होनी चाहिए।
3. वर्कशॉप में कार्य करते समय घड़ी, टाई, चैन, बेल्ट आदि नहीं पहनना चाहिए।
4. जिस मशीन के बारे में आपको जानकारी नहीं है, उस मशीन को चालू नहीं करना चाहिए।
5. चलती हुई मशीन की मरम्मत नहीं करनी चाहिए।
6. वर्कशॉप के अंदर अगर चश्मा, हेलमेट आदि उपलब्ध है, तो उनका प्रयोग जरूर करना चाहिए।
7. कार्यशाला में कार्य करते समय किसी साथी के साथ साथ हंसी-मजाक बिल्कुल नहीं करनी चाहिए।
8. चालू मशीन या चालू इंजन के नीचे काम करने के लिए नहीं घुसना चाहिए।
9. मशीन या इंजन पर कार्य करते समय अपनी शर्ट की बाहे ऊपर कर लेनी चाहिए।

 औजारों की सुरक्षा(Tool safety) 

1. कार्यशाला में काम करने से पहले सभी औजारों के बारे में पूरी तरह जानकारी होनी चाहिए ।
2. नापने वाले(measuring tool) या फिर काटने वाले(cutting tool) औजारों को एक साथ नहीं रखना चाहिए।
3. औजारों को उपयोग में लेने से पहले ओर बाद में उन्हें अच्छे तरीके से साफ करके रखना चाहिए।
4. औजारों को ग्रीस और तेल इत्यादि में नहीं लगाना चाहिए
5. यदि किसी औजार की जरूरत नहीं है, तो उसे टूल बस में रख देना चाहिए।
6. बिना हैंडल वाले औजारों का उपयोग नहीं करना चाहिए।
7. खराब औजारों को काम में नहीं लेना चाहिए।

 मशीन की सुरक्षा(Machine Safety) 

1. जिस मशीन को हमें चालू करना है, उसके बारे में हमें पूरी जानकारी होनी चाहिए।
2. वर्कशॉप में रखी हुई मशीनों को हमें प्रतिदिन साफ करना चाहिए, ताकि वह सुरक्षित रहे और खराब नहीं हो।
3. जिस मशीन को लुब्रिकेशन की आवश्यकता है, उसके लुब्रिकेशन का पूरा ध्यान रखना चाहिए और जिस मशीन में कूलिंग की आवश्यकता है, उसमें कूलिंग का ध्यान रखना चाहिए।
4. बिना जरूरत मशीन को नहीं चलाना चाहिए।
5. चालू मशीन को छोड़कर नहीं जाना चाहिए।
6. जिस मशीन में से आवाज आती है। या फिर कोई नट बोल्ट लूज़ है, तो हमें उसे आवश्यकतानुसार टाइट कराना चाहिए।
7. मशीन पर कार्य करते समय यह पता होना चाहिए की मशीन सही से कार्य कर रही है या फिर नहीं और अगर नहीं कर रही तो उसकी मरम्मत करानी चाहिए।
8. आवश्यकतानुसार मशीन पर डेंजर खतरा लिखा होना चाहिए या फिर लिख देना चाहिए।
9. कार्यशाला में लगी मशीनों पर सुरक्षा कवच लगा होना चाहिए। 

 विद्युत संबंधित सुरक्षा(Electrical Safety) 

1. कटी हुई वायरिंग पर Insulated tape(इलेक्ट्रिकल टेप) लगा देना चाहिए।
2. यदि कही पर वायरिंग में लूज कनेक्शन है, तो उसे टाइट करना चाहिए।
3. बिजली से संबंधित कार्य करते समय मेन स्विच बंद कर देना चाहिए।
4. वर्कशॉप में कार्य करते समय यदि जरूरत हो तो अन्य स्विच को भी बंद कर देना चाहिए।
5. बैटरी को हमेशा चार्जिंग रूम में ही चार्ज करना चाहिए।
6. मशीनों के मूविंग पार्ट्स के नजदीक से निकले हुए तार को सही तरीके से दबाना तथा बांधना चाहिए, ताकि तार मशीन में आकर कटे नहीं।
7. सभी इलेक्ट्रॉनिक मशीनों को अर्थ कर देना चाहिए ताकि कोई करंट का झटका महसूस ना हो।

यह भी पढ़े  (Also Read)
Earthing क्या है और अर्थिंग क्यों जरूरी है
इलेक्ट्रिकल केबल में सफेद पाउडर क्यों होता है

 सामान्य सुरक्षा (General Safety) 

1. कार्यस्थल पर नीचे गिरे हुए किसी भी सामान को हटा देना चाहिए।
2. वर्कशॉप में रखी हुई गाड़ियों के टायर के पीछे वुडन ब्लॉक लगा देना चाहिए, ताकि गाड़ी आगे पीछे ना खिसके।
3. प्राथमिक उपचार करने के तरीके किसी ना किसी मैकेनिक को याद होनी चाहिए।
4. यदि कभी कोई दुर्घटना होती है तो रोगी को इस प्रकार आश्वासन देना चाहिए, कि वह रोगी घबराए नहीं।
5. रोगी की चोट का पता लगाना चाहिए। उसको कहां पर और किस प्रकार की चोट लगी हे।
6. खून बहने की स्थिति में खून को रोकने की व्यवस्था करनी चाहिए।
7. दुर्घटनाग्रस्त रोगी को गर्म दूध या चाय आदि उपलब्ध हो तो उसे देनी चाहिए। पानी अथवा नशीले पदार्थ का सेवन नहीं कराना चाहिए।
8. रोगी को जरूरत पड़े तो उसके कपड़े गीले कर देना चाहिए।
9. यदि कोई रोगी जली हुई अवस्था में है तो उसे कंबल ढक देना चाहिए।
10. रोगी के आसपास अनावश्यक भीड़ इकट्ठी नहीं होने देना चाहिए।
11. दुर्घटनास्थल से उठाकर रोगी को आरामदायक स्थान पर ले जाना चाहिए।
12. टूटी हुई हड्डी के स्थान पर दबाव नहीं डालना चाहिए, ओर उसके हिलने नहीं देना चाहिए।


तो दोस्तो उम्मीद है आज आपके सुरक्षात्मक सावधानिया (Safety Precautions) से जुड़े कई सवालो के जवाब मिल गए होंगे, अगर आपके अभी भी कोई सवाल इंजीनियरिंग से जुड़े है तो आप हमे कमेन्ट करके जरूर बताये।

इंजीनियरिंग दोस्त (Engineering Dost) से जुड़ने के लिए आपका धन्यवाद।

अगर आप इलेक्ट्रिकल की वीडियो हिन्दी मे देखना पसन्द करते है, तो आप हमारे YouTube Channel इलेक्ट्रिकल दोस्त को जरूर विजिट करे।

7 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here