ट्रांसफार्मर की रेटिंग KVA में क्यों होती है। Transformer in KVA hindi

दोस्तो आज हम Transformer rating KVA में क्यों होती है, इस प्रश्न पर बात करेंगे क्योंकि यह प्रश्न लगभग सभी इलेक्ट्रिकल इंटरव्यू में पूछा जाता है।

आज मै आपको सबसे पहले ट्रांसफार्मर की रेटिंग KVA में क्यों होती है, इस पॉइन्ट को समझाऊंगा ओर आखरी में आपको यह बताऊँगा की अगर इंटरव्यू में आपसे कोई यह प्रश्न करता है, तब आपको क्या जवाब देना है।

 Transformer में KVA क्या है 

ट्रांसफार्मर एक इलेक्ट्रिकल डिवाइस है। ट्रांसफॉर्मर का उपयोग हम वोल्टेज को कम तथा ज्यादा करने के लिए करते है।

transformer-in-kva-motor-in-kw-why

सबसे पहले हमको यह जान लेंगे की KVA का मतलब क्या होता है।

KVA का पूरा नाम- Kilo Voltage Ampere

  • इसमे kilo का मतलब 1000 होता है।
  • KVA हमारे सिस्टम के वोल्टेज ओर एम्पेयर(करंट) को गुणा करके निकाला जाता है। KVA= K×V×A

परन्तु अब हमारे मन में एक सवाल यह भी होता है की मोटर की रेटिंग KW में क्यों होती है।

KW का पूरा नाम Kilo Watt

KW निकालने के लिए हमे वोल्टेज ओर करंट के साथ साथ पावर फैक्टर को भी गुणा किया जाता है।
KW= K×V×A×P.F.

 KVA ओर KW में अंतर 

KVA ओर KW में सिर्फ पॉवर फैक्टर जोड़ने का ही अंतर होता है। अगर हम कभी भी KVA के अंदर पावर फैक्टर को गुणा कर देंगे, तो वह KVA से KW में बदल जाएगा। पावर फैक्टर हमेशा लोड के आधार पर बदलता रहता है।

इलेक्ट्रिकल में तीन तरह लोड होते है।

types-of-electical-load-hindi-engineering-dost

  1. Resistive Load (रजिस्टिव लोड)
  2. Inductive Load  (इंडक्टिव लोड)
  3. Capacitive Load (कैपेसिटिव लोड)

इन तीनो लोड का पावर फैक्टर अलग-अलग होता है।

Why Transformer Rating in KVA?

जब ट्रांसफार्मर को बनाया जाता है, तब इंजीनियर को यह नही पता होता की भविष्य में उस ट्रांसफॉर्मर पर किस power factor के लोड को जोड़ा जाएगा।

जैसे- अभी आपको बताया की इलेक्ट्रिकल सिस्टम में तीन तरह के लोड होते है। इस वजह से हर लोड पर पावर फैक्टर भी बदलता रहता है।

इंजीनियर को यह बात नही पता होती है, कंपनी वाले उनके ट्रांसफार्मर पर कितने पावर फैक्टर को रखेंगे। इंजीनियर को सिर्फ यह पता होता है की उनके ट्रांसफॉर्मर में से कितना वोल्टेज ओर कितना करंट को निकाला जाएगा।

ट्रांसफार्मर KVA में होने के पीछे की दूसरी वजह 

हम सभी को पता है ट्रांसफॉर्मर के अंदर दो तरह कर लॉस होते है।

  1. Copper loss (कॉपर लॉस)
  2. Iron loss/Core Loss (आयरन लॉस)

Copper Loss- यह ट्रांसफार्मर की वाइंडिंग में होते है। कॉपर लॉस को हम करंट लोस्स भी कहते है। यह ट्रांसफार्मर से निकलने वाले करंट पर डिपेंड करता है।

transformer-copper-loss-hindi

जब ट्रांसफॉर्मर को लोड से जोड़ा जाता है, उस समय ट्रांसफार्मर की वाइंडिंग से करंट गुजरने लगता है। इस वजह से ट्रांसफार्मर की वाइंडिंग में हीट उत्पन होती है। इस हीट की वजह से इलेक्ट्रिसिटी के कुछ लॉस होते है, यह कॉपर लॉस कहलाते है।

Core loss & Iron loss- कोर लॉस हमेशा वोल्टज के कारण होते है। जैसा हम सभी जानते है ट्रांसफार्मर पर वोल्टेज हमेशा लगभग फिक्स ही रहता है, वह ज्यादा बदलता नही है।

transformer-core-loss-in-hindi-engineeringdost

वोल्टेज फिक्स होने के कारण ट्रांसफार्मर के कोर लॉस मतलब आयरन लॉस भी हमेशा फिक्स रहते है।

 इंटरव्यू के लिए जवाब 

इलेक्ट्रिकल इंटरव्यू के अंदर अगर आपसे ट्रांसफार्मर की रेटिंग KVA में क्यों होती है? यह प्रश्न पूछा जाता है, तब आपको आसान शब्दो में यह बताना है।

उत्तर- ट्रांसफार्मर की रेटिंग KVA में होने के पीछे मुख्य 2 कारण होते है।

1. ट्रांसफार्मर एक इलेक्ट्रोमैग्नेटिक डिवाइस होता है। इस कारण से इसमे दो तरह के लॉस होते है, यह लॉस वोल्टेज ओर करंट के कम ज्यादा होने पर बदलते रहते है।

2. ट्रांसफार्मर आउटपुट में इलेक्ट्रिकल सप्लाई देने का काम करता है। हम उस इलेक्ट्रिकल सप्लाई से हमारे उपकरण को जोड़ते है।

types-of-electical-load-hindi-engineering-dost

परन्तु इलेक्ट्रिकल के उपकरण तीन भागो में बटे होते है, इन तीनो का पावर फैक्टर अलग अलग रहता है। ओर यह बात इंजीनियर को नही पता होती की हम किस पावर फैक्टर के उपकरण को ट्रांसफार्मर से जोड़ेंगे।

आप इस बात पर धयान दे- जो भी उपकरण आउटपुट में हमे इलेक्ट्रिकल एनर्जी देते है। जैसे- ट्रांसफार्मर, जनरेटर या ओर भी कोई। इनमे से किसी की भी रेटिंग KW में नही आ सकती है, इनकी rating हमेशा KVA में आएगी।

Also Read (यह भी पढ़े)
पावर फैक्टर क्या है और इसके प्रकार
Transformer के पार्ट्स के नाम और उनके कार्य

तो दोस्तो उम्मीद है आज आपके Transformer की rating KVA से जुड़े कई सवालो के जवाब मिल गए होंगे, अगर आपके अभी भी कोई सवाल इंजीनियरिंग से जुड़े है तो आप हमे कमेन्ट करके जरूर बताये।

इंजीनियरिंग दोस्त (Engineering Dost) से जुड़ने के लिए आपका धन्यवाद। 🙂 

अगर आप इलेक्ट्रिकल की वीडियो हिन्दी मे देखना पसन्द करते है, तो आप हमारे YouTube Channel इलेक्ट्रिकल दोस्त को जरूर विजिट करे।

Previous articleCorona Effect in Transmission Line Hindi
Next articleWhy white powder inside Electrical Cable Hindi
Aayush Sharma is an Assistant Engineer in a Semi-Government Company and Owner of "Engineering Dost" and the Electrical Dost YouTube Channel. He Provides you Engineering inquiry and support of engineering market facts with Practical experience.

64 COMMENTS

  1. sir Your answer explanation style is too good..
    I loved it. and thanks lot to you.
    And i want to more and more Articles and these type of Videos. ..😊

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here