What is Resistor in hindi – resistor types, working, uses

दोस्तो आज हम बिल्कुल आसान शब्दो में resistor क्या होता है, resistor working और रेसिस्टर को क्यों लगाया जाता है यह सब जान लेंगे।

What is Resistor (प्रतिरोधक क्या होता है)

resistor को हिंदी में प्रतिरोधक कहा जाता है। यह इलेक्ट्रिकल का ऐसा उपकरण है, जिसकी मदद से हम करंट को कंट्रोल कर सकते है। अगर हम रेसिस्टर की परिभाषा को देखतें है, तो उसमे भी यही लिखा होता है।
Resistor एक ऐसा इलेक्ट्रॉनिक उपकरण है, जो करंट के बहने की स्पीड को कम करता है।

Resistor working (resistor कैसे काम करता है)

इसको समझना काफी आसान है। अगर आप इलेक्ट्रिकल फील्ड में ही काम कर रहे है। तब हमें यह पता है की कई चीज़े ऐसी होती है, जिसमे करंट नही गुजर पाता है। जैसे- कोई लकड़ी या प्लास्टिक।

लेकिन कुछ पर्दाध ऐसे होते है, जिनमे काफी आसानी से करंट फ्लो हो जाता है, जैसे- कॉपर, अलुमिनियम। इनमे आसानी करंट से गुजर जाता है, इसलीए इनको हम वायर के लिए उपयोग लेते है।

अभी हमको सिर्फ यह याद रखना है। जिन चीज़ों में से करंट गुजर जाता है, उसको हम कंडक्टर कहते है। और जो करंट चीज़े को बहने नही देते, उसको हम इंसुलेटर कहते है।

अब हमे यह पता चल गया है की, कंडक्टर हमारे करंट के बहने का एक रास्ता होता है। और अगर हम इस करंट के रास्ते को खराब कर दे, तो करंट को गुजरने में मुश्किल होगी जिसके कारण करंट की स्पीड कम हो जाएगी। तो यही चीज़ रेसिस्टर के अंदर की जाती है।

resistors-working-hindi-electrical-engineering

Resistor को जब बनाया जाता है। तब सबसे पहले एक कंडक्टर वायर को लेते है, जो की हमको रेसिस्टर के दोनो साइड बाहर निकले हुए भी दिखते है। पर इस वायर को बीच में से ब्रेक मतलब तोड़ दिया जाता है। और बीच की जगह पर कार्बन को भर दिया जाता है।

Resistor में कार्बन के उपयोग के कारण करंट को गुजरने में तकलीफ होती है, और करंट की स्पीड कम हो जाती है।

What is Resistance (रेजिस्टेंस क्या होता है)

दोस्तो जब भी resistor का नाम आता है, तो साथ में resistance को भी बोला जाता है। कई लोग resistor को रेजिस्टेंस भी बोलते है, तो क्या यह सही है।

Resistance का मतलब- सबसे पहले आपको एक बात यह पता होनी चाहिए की रेजिस्टेंस हर एक वस्तु के अंदर होता है।

इसको समझना बहुत जरूरी है, इसके लिए आप सिर्फ यह लाइन याद कर लीजिए। किसी भी सर्किट के अंदर करंट को रोकने वाला रेजिस्टेंस होता है।

अब आपके मन में यह सवाल आया होगा की करंट को resistor रोकता या फिर resistance?

जवाब- resistor एक उपकरण का नाम है, जैसे- मोबाइल, TV इस तरह से रेसिस्टर भी एक उपकरण है। पर इसके अंदर जो करंट को रोकता है वह रेजिस्टेंस है।

अगर आप कभी Resistor को दुकान पर लेने जाते है, तो आपसे पूछा जाएगा की कितने रेजिस्टेंस का रेसिस्टर चाहिए? या फिर कितने Ohm का रेजिस्टेंस चाहिए?

मतलब- रेसिस्टर एक उपकरण का नाम है, और रेजिस्टेंस उसके अंदर की वैल्यू।

What is Ohm (ओम क्या होता है)

दोस्तो जैसा की मैंने आपको बताया था की हम कंडक्टर के बीच में कार्बन को डाल देते है, और resistor बन जाता है।

पर दोस्तो हमे कितने करंट को कम करना है, उस अनुसार ही कार्बन को डाला जाता है। जैसे कोई जगह है, वहाँ पर हमको करंट की मात्रा को कुछ ही कम करना है, तो हम कम कार्बन का उपयोग resistor में करेंगे, मतलब हम कम resistance का प्रतिरोधक लगाएँगे। 

और यह जो resistance होता है, इसको हम Ohms में पता करते है, जिस तरह हम वजन को Kg में बोलते है। अगर हमें ज्यादा करंट को सर्किट में कम करना है, तो हम ज्यादा ohm का रेसिस्टर लाकर लगा देंगे। 

Resistance और Ohm में अंतर यह दोनो एक ही चीज़ है, बस हम रेजिस्टेंस की वैल्यू को Ohm(Ω) में लिखते है।

Why Resistor are used (प्रतिरोधक क्यों लगाते है)

दोस्तो हमारे सभी इलेक्ट्रिकल या इलेक्ट्रॉनिक उपकरण की एक ताकत होती है, की वह ज्यादा से ज्यादा कितने करंट को सहन कर सकते है। अगर उस उपकरण की ताकत से ज्यादा करंट उसमे चला जाता है तो वह पूरी तरह से खराब हो जाएगा।

उदाहरण- हमारे पास कोई LED बल्ब है, और हमे उसको स्टार्ट करना है। इसके लिए सबसे पहले हम उस उपकरण पर चेक करेंगे की वह कितने करंट और वोल्टेज के लिए बना है।

अब अगर हमारे पास LED की कैपेसिटी से ज्यादा की बैटरी है, तो हम बीच में एक resistor का उपयोग कर लेंगे ताकि बैटरी से निकलने वाले एक्स्ट्रा करंट को resistor रोक दे, और हमारी LED आसानी से चल जाए।

Resistor Definition- resistor is an electrical component. That limits or regulates the flow of electrical current in an electronic circuit.

प्रतिरोधक की परिभाषा- रेसिस्टर एक इलेक्ट्रिकल का एक ऐसा component है, जो की इलेक्ट्रॉनिक सर्किट में बहने वाले करंट को कंट्रोल करता है।

Resistor Types (रेसिस्टर के प्रकार)

Resistor दो प्रकार के होते है।

  1. Fix resistor (फिक्स रेसिस्टर)
  2. Variable Resistor (वेरिएबल रेसिस्टर)

Fix Resistors- इस प्रकार के रेसिस्टर में हम resistance की वैल्यू को कम ज्यादा नही कर सकते है।

Variable Resistor- इस प्रकार के रेसिस्टर में हम रेजिस्टेंस की वैल्यू को जरूरत के अनुसार कम ज्यादा कर सकते है।

Resistor की वैल्यू को कैसे पता करते है?

दोस्तो इसके लिए हमारे पास दो तरीक़े होते है।

  1. Multi meter की सहायता से
  2. Resistor के ऊपर बने color code की मदद से

मल्टीमीटर से resistance की वैल्यू को निकालना काफी आसान है, इसके लिए आपको सिर्फ multi-meter को Ohm(Ω) पर सेट करना है। और दोनो मल्टीमीटर की लीड को रेसिस्टर से जोड़ देना है।

दूसरे तरीके में हम प्रतिरोधक के ऊपर बने कलर की मदद से वैल्यू को पता कर सकते है। इसके बारे में हम आगे की पोस्ट में बात करेंगे। आपके और भी कोई सवाल है, तो कमेंट में जरूर बताये।

 यह भी पढ़े (Also read) 
Ohm’s law ओम का नियम क्या है
Motor Types कितने प्रकार की होती हैं

 

इंजीनियरिंग दोस्त (Engineering Dost) से जुड़ने के लिए आपका धन्यवाद। 🙂 

अगर आप इलेक्ट्रिकल की वीडियो हिन्दी मे देखना पसन्द करते है, तो आप हमारे YouTube Channel इलेक्ट्रिकल दोस्त को जरूर विजिट करे।

5 COMMENTS

  1. I really like your every post. it’s really helpful to understand tough thing in so easy form. thanks a lot.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here