Transmission Line and Distribution Line Difference in hindi

नमस्कार दोस्तों आज हम ट्रांसलेशन लाइन और डिस्ट्रीब्यूशन लाइन क्या होती है और इनका क्या काम होता है यह जान लेंगे। इसी के साथ में हम Transmission Line और Distribution Line के बीच के अंतर को भी जान लेंगे।

What is Transmission Line (ट्रांसमिशन लाइन क्या है?)

दोस्तों ट्रांसमिशन लाइन का बेसिक काम जेनरेटिंग स्टेशन को सब्सटेशन के साथ साथ जोड़ना होता है। जैसे की आप मान लीजिए की एक पावर प्लांट है, जहां पर इलेक्ट्रिसिटी को जनरेट मतलब बनाया जा रहा है।

जैसा की हम सभी को पता है की पावर प्लांट में इलेक्ट्रिसिटी को 11 KV वोल्टेज में जनरेट किया जाता है। इसके बाद में हम पावर स्टेशन पॉइंट में इस वोल्टेज को ट्रांसफार्मर की मदद से स्टेपअप कर देते है। अभी हम मान लेते है की इस 11000 वोल्टेज को हम 220 KV में स्टेपअप कर रहे है।  वोल्टेज को जेनरेटिंग स्टेशन पर स्टेपअप करने के बाद अब हम ट्रांसमिशन लाइन की मदद लेते है। यह ट्रांसमिशन लाइन इस स्टेपअप हो चुके वोल्टेज को आगे सबस्टेशन तक पहुँचाती है।

What is Transmission Line

दोस्तों यहाँ एक बात का धयान रखिये की अभी तक हमने कही पर भी कस्टमर को इलेक्ट्रिकल सप्लाई देने की बात नहीं करी है। अभी तक हमने जेनरेट की गयी सप्लाई को ट्रांसमिशन लाइन की मदद से सबस्टेशन तक ही पहुंचाया है।

What is Distribution Line (डिस्ट्रीब्यूशन लाइन क्या है?)

अब दोस्तों आगे हम डिस्ट्रीब्यूशन लाइन की बात करे रहे है। इस डिस्ट्रीब्यूशन लाइन लाइन का उपयोग हम इलेक्ट्रिकल सप्लाई को अलग अलग जगह डिस्ट्रब्यूट करने के लिए लेते है।

मतलब- जैसे की आप किसी शहर में रहते है, अब पावर प्लांट में बनने वाली बिजली ट्रांसमिशन लाइन की मदद से आपके पास के किसी सबस्टेशन में तो आ गयी है, लेकिन हमें बिजली की जरूरत तो हमारे घरो में इसके अलावा कंपनी आदि में है। तो अब आगे इलेक्ट्रिकल सप्लाई को पहुंचाने का काम डिस्ट्रब्यूशन लाइन का ही होता है।

What is Distribution Line in hindi

सबस्टेशन में आये वोल्टेज को हम सबसे पहले जरूरत के अनुसार स्टेपडाउन डाउन कर देते है।  इसके बाद इस वोल्टेज को हम डिस्ट्रीब्यूशन लाइन की मदद से कस्टमर के पास पहुंचा देते है।

Transmission Line and Distribution Line Difference

ट्रांसमिशन लाइन और डिस्ट्रब्यूशन लाइन में अंतर

  • सबसे पहला अंतर तो मैंने आपको बता दिया है की ट्रांसमिशन लाइन का उपयोग जेनरेटिंग इलेक्ट्रिकल सप्लाई को सबस्टेशन के पास पहुंचाना होता है। जबकि Distribution Line का काम इलेक्ट्रिकल सप्लाई को सबस्टेशन से लेकर कस्टमर तक पहुँचाना होता है।
  • ट्रांसमिशन लाइन के वोल्टेज डिस्ट्रब्यूशन लाइन से काफी ज्यादा होते है। इस वोल्टेज ज्यादा होने के पीछे का कारण पर हम हमारी अगली पोस्ट में जानेंगे। 

Electric power transmission system

  • ट्रांसमिशन लाइन में हमेशा 3 wire सिस्टम का ही उपयोग किया जाता है, मतलब इसमें न्यूट्रल को ट्रांसफर नहीं किया जाता है। लेकिन अगर हम डिस्ट्रब्यूशन लाइन की बात करे तो इसमें ज्यादातर 4 वायर सिस्टम का ही उपयोग किया जाता है। इसमें हम तीनो फेज के साथ में न्यूट्रल वायर को भी ट्रांसफर करते है।
  • इसके बाद एक अंतर हम इंसुलेशन के ऊपर भी देख सकते है। क्युकी ट्रांसमिशन लाइन के वायर में इंसुलेशन का उपयोग नहीं किया जाता है, लेकिन अगर हम डिस्ट्रब्यूशन लाइन की बात करे तो इस वायर पर इंसुलेशन की कोटिंग की जाती है।

यह भी पढ़े (Also Read)
ट्रांसफार्मर की रेटिंग KVA में क्यों होती है
Transformer के पार्ट्स के नाम और उनके कार्य

तो दोस्तो उम्मीद है आज आपके Transmission Line और Distribution Line से जुड़े कई सवालो के जवाब मिल गए होंगे। अगर आपके अभी भी कोई सवाल इंजीनियरिंग से जुड़े है, तो आप हमे कमेन्ट करके जरूर बताये।

इंजीनियरिंग दोस्त (Engineering Dost) से जुड़ने के लिए आपका धन्यवाद।

अगर आप इलेक्ट्रिकल की वीडियो हिन्दी मे देखना पसन्द करते है, तो आप हमारे YouTube Channel इलेक्ट्रिकल दोस्त को जरूर विजिट करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here