NO NC and Common in hindi – No Nc Common क्या है

दोस्तो अगर आप इलेक्ट्रिकल फील्ड में नए आए हो, तो आपको no nc और common यह तीन शब्द काफी ज्यादा सुनने को मिलेंगे। आज में आपको यह no nc common क्या होता है, और इसकी क्या जरूरत है यह समझा दूंगा।

सबसे पहले हम no nc कितना जरुरी है, इसको जान लेते है। 

दोस्तो इंग्लिश के अंदर जितनी ABCD की जरूरत है। उतना ही जरूरी इलेक्ट्रिकल में NO NC समझना है।

अगर आप कभी भी कोई इलेक्ट्रिकल ड्राइंग को देखते है, तो वह पूरी NO NC और Common की सहायता से ही बनी होती है।

इलेक्ट्रिकल के सभी सर्किट चाहे वो कंप्यूटर के अंदर बनाना हो या फिर किसी पेपर पर सभी के अंदर no और nc की जरूरत पड़ती है। तो आज हम एक एक करके इन तीनो को अच्छे से समझ लेते है।

What is NO point (no क्या होता है)

दोस्तों अगर आपको NO पॉइंट की जगह पर कही No Terminal या फिर NO स्विच लिखा हुआ मिलता है, तो आपको बिल्कुल टेंशन नही लेनी है। क्योंकि यह सभी एक ही है।

इसके अलावा आपको एक बात ध्यान रखनी है, कभी भी आपको कही NO या NC लिखा मिलता है, तो आपको हमेशा वहाँ दो पॉइंट मिलेंगे। और यह no nc इस बात को बताते है, की वह दोनों point आपस में जुड़े हुए है या नहीं।

NO का पूरा नाम- Normally open(नॉर्मली ओपन)

what-is-no-switch-in-hindi

नॉर्मली ओपन का मतलब होता है की, इसके अंदर दोनों पॉइंट नार्मल कंडीशन में आपस में जुड़े नही होते है।


नार्मल कंडीशन का मतलब क्या है?

अगर हम एक स्विच का उदाहरण ले, तो जब तक वह स्विच बन्द है। तब तक वह उसकी नार्मल कंडीशन कहलाएगी। परन्तु जैसे ही हम उसको चालू कर देते है, तो अब वह उसकी नार्मल कंडीशन नहीं होती है। क्योंकि हमने उसको चालू करके उसमे बदलाव कर दिया है।

अब आपको समझ आ गया होगा की NO का मतलब नॉर्मली ओपन है। इसके अंदर जब तक कंडीशन नार्मल है, इसमे कोई बदलाव नही आता है। तब तक इसके दोनों पॉइंट एक दूसरे से दूर दूर मतलब ओपन होते है।

लेकिन जब कंडीशन नार्मल नही होती है। जैसे- किसी ने उस NO स्विच को चालू कर दिया। तो उस समय यह NO के दोनो पॉइंट आपस में short हो जाते है।(मतलब एक दूसरे के साथ जुड़ जाते है)

NO का उपयोग- इसका मुख्य उपयोग किसी भी उपकरण को चलाने के लिए किया जाता है। क्योंकि यह बिल्कुल एक स्विच की तरह काम करता है। जब हम इसको दबाते है तो इसके अंदर के दोनो पॉइंट आपस में जुड़ जाते है, और एक पॉइंट की सप्लाई दूसरे में चले जाती है।

What is NC point (nc क्या होता है)

NC का पूरा नाम- Normally Close (नॉर्मली क्लोज)

NO और NC यह दोनो आपस में बिल्कुल उल्टे होते है।

NC-terminal-in-hindi-electrical

NC point नॉर्मल कंडीशन में आपस में जुड़े होते है। मतलब अगर हमने एक पॉइंट में सप्लाई दी है, तो वह NC के दूसरे पॉइंट पर भी मिलती रहेगी।

और जब हम इस NC बटन को दबाते है, तब NC के दोनो पॉइंट ओपन हो जाते है, ओर जो सप्लाई एक से दूसरे में जा रही थी, वह दूसरे पॉइंट में जाना पूरी तरह से रुक जाती है।

NC का उपयोग- इसका मुख्य उपयोग किसी भी उपकरण को बंद करने के लिए किया जाता है। क्योंकि जब तक हम NC बटन को दबाते नही है, तब तक सप्लाई एक पॉइंट की दूसरे में जाती रहती है, और हमारा उपकरण चलता रहता है।

लेकिन जैसे ही NC switch को दबाया जाता है, तो इसके दोनो पॉइन्ट आपस में दूर दूर हो जाते है, और सप्लाई आगे जाना रुक जाती है। और हमारा उपकरण चलना बंद हो जाता है। 


What is Common point (common क्या होता है)

यह नाम आपको ज्यादातर टाइमर में सुनने को मिलता है। इसके अलावा Common point के साथ में हमेशा NO और NC यह दो पॉइंट भी होते है।

what-is-common-point-in-hindi

उपयोग का तरीका- इसमे मुख्य वायर जिसमे करंट है, उसको common point पर जोड़ा जाता है। और ऐसा करते ही Common की सप्लाई NC के अंदर भी जाने लग जाती है। क्योंकि हमे पता है NC का मतलब नॉर्मली क्लोस होता है, मतलब यह आपस में जुड़ा होता है।

लेकिन जब हमारे Timer का time पूरा हो जाता है, तो वह टाइमर ऑन हो जाता है। ऐसा होते ही यह कंडीशन अब नार्मल नही होती है।

और अब common point की सप्लाई NC में जाना बन्द होकर NO से जाने लग जाती है।

 

 यह भी पढ़े (Also read)
HT और LT लाइन क्या होती है 
Motor Types कितने प्रकार की होती हैं

 

तो दोस्तो उम्मीद है आज आपके Normally open, Normally Closed और Common Point से जुड़े कई सवालो के जवाब मिल गए होंगे। अगर आपके अभी भी कोई सवाल इंजीनियरिंग से जुड़े है, तो आप हमे कमेन्ट करके जरूर बताये।

इंजीनियरिंग दोस्त (Engineering Dost) से जुड़ने के लिए आपका धन्यवाद।

अगर आप इलेक्ट्रिकल की वीडियो हिन्दी मे देखना पसन्द करते है, तो आप हमारे YouTube Channel इलेक्ट्रिकल दोस्त को जरूर विजिट करे।

Previous articleEarthing and Grounding difference in hindi
Next articleOn-Grid, Off-Grid and Hybrid Solar System in hindi
Aayush Sharma is an Assistant Engineer in a Semi-Government Company and Owner of "Engineering Dost" and the Electrical Dost YouTube Channel. He Provides you Engineering inquiry and support of engineering market facts with Practical experience.

5 COMMENTS

  1. बहोत ही आसान भाषा में समजाया है।
    आपने हिंदी में इतने आसान भाषा में आर्टिकल के माध्यमसे जानकारी दी है कि उसको पढकर कोई भी इलेक्ट्रिकल कि थोडी सी मालुमातवाला भी अच्छे तरह से समजकर, पढकर No/ NC के कनेक्शन कर सकता है।
    बहोत बहोत शुक्रिया और बहोत सारी शुभकामनाए।
    और आपसे निवेदन करता हूं कि आपके बहोत सारे व्हिडिओ इलेक्ट्रिकल के बारेमें यू ट्यूब पे देखे है तो वो सभी कि हो सके तो जानकारी आर्टिकल के माध्यमसे उपलब्ध करेंगे तो बहोत अच्छा होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here