मोटर पर VFD क्यों लगाते है?

0
why VFD used

अगर आप इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग से जुड़े हुए है, तो आपने VFD स्टार्टर का नाम तो सुना होगा या फिर आपने इंडस्ट्री में मोटर पर VFD लगा हुआ तो जरूर देखा होगा। लेकिन अगर पूछा जाए की VFD को मोटर पर क्यों लगाया जाता है?

तो कुछ लोग इस सवाल का जवाब नहीं दे पाते लेकिन कुछ लोग इसी सवाल के 4-5 कारण बता देते है, लेकिन अगर उनसे पूछा जाए की इनमे से मुख्य कारण कोनसा है तो वे कंफ्यूज हो जाते है और सही जवाब नहीं दे पाते।

what is VFD

आज की इस पोस्ट में हम बात करंगे की VFD का उपयोग करने का मुख्य कारण क्या है इसके साथ साथ बाकी जितने भी VFD के फायदे है, उन सब पर भी बात करेंगे। तो चलिए जल्दी से VFD का मुख्य काम जान लेते है, फिर बाकी अलग से जितने भी फायदे है उन पर भी बात कर लेंगे।

मोटर पर VFD क्यों लगाते है?

Why VFD used on motor?

दोस्तों अगर आपसे इंटरव्यू में पूछा जाता है, की मोटर पर VFD लगाने का मुख्य कारण बताओ? तो आपको सीधा सा जवाब देना है, की VFD का उपयोग हम मोटर की स्पीड को कण्ट्रोल करने के लिए करते है। क्योकि दोस्तों VFD को छोड़कर हमारे जितने भी स्टार्टर होते है, जैसे की DOL स्टार्टर, स्टार-डेल्टा स्टार्टर या फिर सॉफ्ट स्टार्टर तो इनमे किसी से भी हम मोटर की स्पीड को कण्ट्रोल नहीं कर पाते।

VFD-working

स्पीड कण्ट्रोल से मतलब है, की हमारी मोटर कितनी तेज़ घूम रही है, उस स्पीड को हम हमारे अनुसार कण्ट्रोल कर सके। तो VFD की मदत से मोटर की स्पीड को हम हमारे अनुसार कण्ट्रोल कर सकते है। लेकिन दोस्तों अब आगे आपसे इंटरव्यू में पूछा जा सकता है की आखिर हम VFD से मोटर की स्पीड को कैसे कण्ट्रोल करते है, तो चलिए अब इस सवाल का जवाब भी जान लेते है।

VFD से मोटर की स्पीड कैसे कण्ट्रोल होती है?

How to control Speed with VFD?

दोस्तों हम सभी को यह तो पता है की हमारे देश में जो इलेक्ट्रिसिटी सप्लाई होती है वह AC करंट होती है, जो की 50Hz पर सप्लाई की जाती है।

दोस्तों जिस मोटर की स्पीड को कण्ट्रोल करना है, उस मोटर मे सप्लाई वायर डायरेक्ट ना जोड़कर पहले VFD में सप्लाई वायर को जोड़ते है, और फिर VFD से हम मोटर को सप्लाई देते है, तो अब अगर हमे मोटर की स्पीड को कम करना है तो हमारे पास जो AC सप्लाई 50Hz पर आ रही थी, उस फ्रीक्वेंसी को हम कम कर देते है जैसे 40Hz, 30Hz, जितनी स्पीड को कम करना है, उसी के अनुसार फ्रीक्वेंसी को कम कर देते है।

speed control from VFD

इसी तरह अगर हमे स्पीड को बढ़ाना है, तो सप्लाई फ्रीक्वेंसी को बड़ा देते है, जैसे की 60Hz, 70Hz जितनी स्पीड बढ़ानी है उसी के अनुसार फ्रीक्वेंसी को बढ़ाते है।

तो दोस्तों अगर आपसे VFD लगाने का मुख्य कारण पूछे तो अब आप आसानी से बता सकते हो की VFD का उपयोग मोटर की स्पीड कण्ट्रोल करने के लिए करते है, लेकिन अगर इंटरव्यू में पूछा जाए की VFD लगाने के और क्या फायदे हो सकते है, तो उस समय आपको क्या जवाब देना है वह भी जान लेते है।

VFD लगाने के फायदे

Advantages of VFD

दोस्तों VFD के स्पीड कण्ट्रोल करने के अलावा भी कई सारे फायदे है जैसे की:

  1. Energy saving: दोस्तों उदहारण के लिए हमारी मोटर 15kw की है, और जब हमे मोटर की फुल पावर का उपयोग नहीं करना तो उस समय हम फ्रीक्वेंसी को कम करके मोटर की स्पीड कम कर सकते है जिससे मोटर कम पावर लेगी है। इस तरह दोस्तों VFD से हमारी एनर्जी सेविंग होती है।VFD-energy-saving
  2. Power Factor improve: दोस्तों हम लोग यही चाहते है, की इंडस्ट्री में पावर फैक्टर हमेशा 0.99 से 1 के बिच बना रहे। क्योकि अगर पावर फैक्टर 0.80 के निचे जाता है तो सरकार पनेल्टी लगा सकती है। VFD के उपयोग से हमे एक एक्स्ट्रा फायदा यही भी होता है, की हमारा पावर फैक्टर इम्प्रूव होता है। improve power factor VFD
  3. Smooth start: VFD का उपयोग करने से हमारी मोटर स्मूथ स्टार्ट और स्मूथ स्टॉप होती है। स्मूथ स्टार्ट से मतलब है, की हमारी मोटर जब स्टार्ट होती है तो उस समय स्टार्टिंग करंट बहुत ज्यादा होती है जिस कारण मोटर अचानक से बहुत स्पीड घूमती है, अगर हमारी मोटर अच्छे से फिट नहीं की हुई तो मोटर बहुत ज्यादा हिलने लगती है या फिर ज्यादा स्टार्टिंग करंट के कारण हमारी मोटर खराब भी हो सकती है। VFD हमारी मोटर को धिरे-धिरे रन करवाती है और और धिरे-धिरे ही ऑफ करती है। जिससे मोटर ज्यादा हिलती नहीं ना ही डेमेज होने का खतरा रहता।VFD motor protection
  4. To Protect Motor: इन सब के अलावा जो सबसे ज्यादा इम्पोर्टेन्ट VFD का उपयोग आता है, वो होता है मोटर को सभी तरह की प्रोटेक्शन देना। VFD मोटर को सभी तरह की प्रोटेक्शन देता है जैसे की ओवर करंट, फेज अनबेलेंस, फेज शिफ्टिंग, ओवरलोड, शार्ट सर्किट आदि। इस तरह के जितने भी फाल्ट होते है VFD उन सब से प्रोटेक्शन देती है।

तो दोस्तों उम्मीद है की आपको VFD से रिलेटेड सारे सवालों के जवाब मिल गए होंगे। अगर अभी भी कोई सवाल रह जाता है तो आप इस पोस्ट के नीचे कमेंट करके बता सकते है या फिर हमे इंस्टाग्राम Electrical Dost” पर भी अपना सवाल भेज सकते है।

अगर आपको इलेक्ट्रिकल की वीडियो देखना पसंद है तो आप हमारे चैनल Electrical Dostपर विजिट कर सकते है।

मिलते है अगली पोस्ट में तब तक के लिए धन्यवाद 🙂

पिछला लेखइंटरलॉकिंग क्या होती है और इंटरलॉकिंग कैसे करते है?
अगला लेखPCC और MCC पैनल क्या होते है?
Aayush Sharma is an Assistant Engineer in a Semi-Government Company and Owner of "Engineering Dost" and the Electrical Dost YouTube Channel. He Provides you Engineering inquiry and support of engineering market facts with Practical experience.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें