electrical and electronic difference in hindi

दोस्तो जब कभी हम electrical and electronic का नाम सुनते है, तो हमे इन दोनो के बीच में क्या अंतर है यह जानने की इच्छा होती है। लेकिन इसका जवाब आसान शब्दो नही मिल पाता है, तो आज में आपको electrical और electronic क्या होता है, और इनमें अंतर है यह आसान शब्दों में बताऊँगा।

महत्वपूर्ण बात- इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक को जानने से पहले आपके दिमाग से एक बात को साफ कर लीजिये। क्युकी कई लोग electrical and electronic में अंतर को AC और DC करंट से जोड़ देते है, यह पूरी तरह से गलत है।

उदाहरण- हमारे इलेक्ट्रिकल में DC मोटर का भी उपयोग किया जाता है, पर वह मोटर इलेक्ट्रॉनिक नही इलेक्ट्रिकल उपकरण में आती है।

तो दोस्तो अब हम सबसे पहले इन दोनो के बीच में अंतर को समझ लेते है, और आखरी में हम यह जानेंगे की अगर आपसे यह प्रशन इंटरव्यू के अंदर पूछा जाता है। तब आपको क्या जवाब देना है।

Electrical और Electronic परिभाषा

Electrical- electrical device uses the electrical energy for performing any work.

मतलब- इलेक्ट्रिकल के सभी उपकरण किसी भी प्रकार का कार्य को पूरा करने के लिए इलेक्ट्रिकल एनर्जी का उपयोग लेते है। इसमे इलेक्ट्रिकल एनर्जी का मतलब AC या DC करंट है।

Electronics- Electronic device use the control the flow of electrons for performing any task.

इलेक्ट्रॉनिक परिभाषा- इलेक्ट्रॉनिक के उपकरण का उपयोग किसी भी कार्य को करते समय इलेक्ट्रॉन के प्रवाह को कंट्रोल करने के लिए किया जाता है।

यह दोनो परिभाषा अभी आपको ज्यादा समझ में नहीं आएगी, परन्तु यह आखरी में आपके कई सारे सवालो का जवाब दे देगी। 

इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक में अंतर

Electrical और Electronic में उपयोग होने वाले मेटीरियल के आधार पर भी इसमे काफी अंतर हो जाता है।

इलेक्ट्रिकल में ज्यादातर कॉपर ओर एल्युमीनियम का उपयोग किया जाता है, जबकि इलेक्ट्रॉनिक में ज्यादातर सेमीकंडक्टर का उपयोग किया जाता है।

Semiconductor- इसमे कई ऐसे मटेरियल आते है, जो कुछ समय करंट को बहने देते है, और कुछ समय करंट को रोक देते है। इसके ऊपर हम एक अलग पोस्ट में अच्छे से बात करेंगे।

इसके अलावा हमे यह पता होना चाहिए, की इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक में किस करंट का उपयोग किया जाता है।

Which current used in Electrical & Electronics

  • तो दोस्तो इलेक्ट्रिकल में AC और DC मतलब (अल्टरनेटिंग करंट और डायरेक्ट करंट) दोनो का उपयोग होता है। जबकि इलेक्ट्रॉनिक में सिर्फ DC करंट का उपयोग किया जाता है।

अब करंट के बाद हम वोल्टेज की बात कर लेते है। इलेक्ट्रिकल ओर इलेक्ट्रॉनिक में कितने वोल्टेज का उपयोग किया जाता है।

  • इलेक्ट्रिकल के अधिकतर उपकरण ज्यादा वोल्टेज पर कार्य करते है, लेकिन इलेक्ट्रॉनिक के उपकरण काफी कम वोल्टेज पर कार्य करते है। इलेक्ट्रॉनिक के लगभग सभी उपकरण 12 वोल्टेज के नीचे के ही होते है।

अब मैं आपको कुछ इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक के उपकरण के नाम बताऊँगा, जिससे आपको समझने में काफी आसानी हो जाए।

  • इलेक्ट्रिकल में उपयोग होने वाले मुख्य उपकरण ट्रांसफार्मर, मोटर, जनरेटर, बल्ब आदि है। इलेक्ट्रॉनिक के मुख्य उपकरण ट्रांजिस्टर, डायोड, माइक्रो प्रोसेसर, एम्पलीफायर आदि है।

इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक में समानता 

Both Electrical and Electronics device depends on the flow of electron for performing any task.

मतलब- इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक दोनो के अंदर किसी भी कार्य को करने के लिए इलेक्ट्रान के बहने की जरूरत होती है। अगर हमारा इलेक्ट्रान बहना बंद हो जाए मतलब करंट बहना बन्द हो जाए, तो यह दोनो उपकरण काम नही करेंगे।

electrical-engineering-and-electronic-engineering-difference-in-hindi

Electrical Engineering की पढ़ाई 

इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग के अंदर मुख्य तौर पर पावर सिस्टम, विधुत चुंबक, इलेक्ट्रिकल मशीन, स्विच गियर, सर्किट एंड कण्ट्रोल आदि से जुडी नॉलेज दी जाती है।

Electronic Engineering की पढ़ाई 

इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग में ज्यादातर इलेक्ट्रान के बहने को किस प्रकार से नियन्त्र करे, इसके बारे में उच्च शिक्षा दी जाती है। इसमें मुख्य तौर पर इलेक्ट्रॉनिक उपकरण, अर्धचालक उपकरण, ट्रांजिस्टर, डायोड, सर्किट और डिज़ाइन आदि से जुडी काफी हाई लेवल की शिक्षा दी जाती है।

इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियर की पढ़ाई में अंतर

इलेक्ट्रिकल के अंदर हम सिर्फ कंडक्टर और इन्सुलेटर में बहने वाले इलेक्ट्रॉनों पर मामूली अध्ययन करते हैं, लेकिन इलेक्ट्रॉनिक में अर्धचालक व इलेक्ट्रॉनों के (नकारात्मक चार्ज) और होल्स (सकारात्मक चार्ज) के बहने पर काफी ज्यादा पढ़ाई करते हैं।

Electrical and Electronic difference 

Interview answer- By the way, there is a many difference between electrical and electronic. But if we talk about the main difference, with the help of electrical, we are converting electrical energy into another energy.

Example- mechanical energy with the help of motor, heat energy with the help of bulb. But inside electronic engineering, electrons are mainly controlled.

इंटरव्यू जवाब- वैसे तो इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक में काफी अंतर है। पर अगर हम मुख्य अंतर की बात करे तो, इलेक्ट्रिकल की मदद से हम इलेक्ट्रिकल एनर्जी को दूसरी एनर्जी में बदल रहे होते है।

जैसे- मोटर की मदद से मेकेनिकल एनर्जी, बल्ब की मदद से लाइट और हीट एनर्जी। लेकिन इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग के अंदर मुख्य तौर पर इलेक्ट्रॉन के बहने को कण्ट्रोल किया जाता है।

Second Main Difference(दूसरा मुख्य अंतर)

The other main difference between is that electrical equipment does not have the ability to make decisions on its own, but electronic equipment does have this capability.

इन दोनों के बीच दूसरा मुख्य अंतर यह है। इलेक्ट्रीकल के उपकरण में खुद से निर्णय लेने की क्षमता नहीं होती है परन्तु इलेक्ट्रॉनिक उपकरण में यह क्षमता होती है।

उदाहरण- इलेक्ट्रिकल का कोई भी उपकरण, जैसे कोई मोटर हम उसको सप्लाई देकर स्टार्ट कर सकते है। परन्तु वह कुछ समय धीरे चले फिर तेज़ चले ऐसा हम इलेक्ट्रिकल में कण्ट्रोल नहीं कर सकते है, ऐसा करने के लिए हमें इलेक्ट्रॉनिक उपकरण की मदद लेनी पड़ती है।

 यह भी पढ़े (Also read) 
HT और LT का मतलब क्या होता है
Resistor क्या होता है, इसका उपयोग 

 

तो दोस्तो उम्मीद है आज आपके Electrical and Electronic से जुड़े कई सवालो के जवाब मिल गए होंगे। अगर आपके अभी भी कोई सवाल इंजीनियरिंग से जुड़े है, तो आप हमे कमेन्ट करके जरूर बताये।

इंजीनियरिंग दोस्त (Engineering Dost) से जुड़ने के लिए आपका धन्यवाद।

अगर आप इलेक्ट्रिकल की वीडियो हिन्दी मे देखना पसन्द करते है, तो आप हमारे YouTube Channel इलेक्ट्रिकल दोस्त को जरूर विजिट करे।

13 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here