Compressor क्या है इसका उपयोग और इसके प्रकार

आज हम जानेंगे की Compressor क्या होता है यह कैसे काम करता है, साथ ही compressor parts के नाम और उनका क्या उपयोग होता है।

Compressor क्या है

Compressor एक ऐसी machine है जो की आपको सभी कूलिंग करनें वाले उपकरणों में देखने को मिल जाती है। जैसे- फ्रिज, एयर कंडीशनर, वाटर कूलर आदी। इसके अलावा Compressor का उपयोग आपने कई जगह पर हवा को भरने के लिए भी देखा होगा।

compressor kya hai hindi

अगर हम Compressor की परिभाषा को देखे तो यह बताती है की Compressor एक ऐसा डिवाइस है जोकि मैकेनिकल एनर्जी को प्रेशर एनर्जी में बदलकर हमे देती है। कम्प्रेसर की मदद से हम हमारे वातावरण में फैली हवा को हाई प्रेशर के साथ कही भी उपयोग ले सकते है।

Compressor क्या काम करता है

Compressor सबसे पहले हमारे वातावरण की हवा को suck मतलब खींच लेता है। इसके बाद यह इस हवा को कम्प्रेस करके मतलब एक दाब के साथ में कम्प्रेसर टैंक में भेज देता है। और बाद में हम Air Tank में रखी compress एयर को हमारी जरूरत के अनुसार उपयोग ले लेते है।

compressor में सबसे पहले 3 मुख्य pipe line जुडी होती है।

  1. Suction Line (सक्शन लाइन)
  2. Discharge Line (डिस्चार्ज लाइन)

Suction Pipe Line: यह लाइन बाहर की Air को कंप्रेसर के अंदर लेने के लिए उपयोग होती है। सक्शन लाइन हमेशा डिस्चार्ज लाइन से थोड़ी बड़ी होती है। यह पाइप लाइन वातावरण की AIR को पिस्टन के अंदर भेजती है।

Discharge Line: डिस्चार्ज पाइप लाइन का काम होता है जो गैस सक्शन पाइप लाइन द्वारा अंदर आती है उसे बाहर फेंकना। Discharge Line गैस सिलेंडर के अंदर लगी होती है। यह बहुत आवश्यक पाइपलाइन है, इसके बिना हवा compressor से बाहर गैस नहीं जा सकती। इसके लिए सिलेंडर में एक अलग पार्ट होता है। पिस्टन से इसके अंदर गैस आती है और फिर बाहर जाती है।

Charging Line: इस लाइन का कार्य कंप्रेसर को चार्ज करना इसलिए इसे चार्जिंग लाइन कहते हैं।

यह भी पढ़े- Diesel Generator क्या है पार्ट्स के नाम और उनकी वर्किंग

Compressor कैसे काम करता है?

कंप्रेसर के अंदर सिलेंडर लगा होता है जिसके अंदर ही सक्शन व डिस्चार्ज लाइन होती है। कंप्रेसर के अंदर पिस्टन भी लगा होता है जो ऊपर नीचे होता रहता है।

compressor parts name and function hindi

compressor सबसे पहले सक्शन पाइप लाइन से गैस को खींचता और cylinder में भेज देता है। गैस पिस्टन के प्रेशर के वजह से ऊपर जाती है। इसके बाद जब वापस पिस्टन नीचे जाता है तो फिर गैस पर रिटर्न प्रेशर पड़ता है, और हवा डिस्चार्ज पाइप लाइन से बाहर आती है।

सिलेंडर के अंदर ही डिस्चार्ज लाइन और सक्शन पाइप लाइन लगी होती है। इन दोनों लाइन पर के अंदर 1-1 पत्ती लगी होती है। इसमें जब सक्शन पाइप लाइन की पार्ट पत्ती ऊपर की और खुली होती है उस समय डिस्चार्ज लाइन कि पत्ती नीचे की ओर खुली होती है। यह सभी पिस्टन के प्रेशर की वजह से होता है।

Compressor parts name & function

कंप्रेसर में मुख्य 5 पार्ट्स होते हैं।

  1. Air Filter (एयर फिल्टर)

2. Discharge Pipe Line (डिस्चार्ज पाइप लाइन)

3. Suction Pipe Line (सक्शन पाइप लाइन)

4. Piston (पिस्टन)

5. Cylinder (सिलेंडर)

Air Filter (एयर फिल्टर): जो भी गैस कम्प्रेसर में आती है उस गैस को फिल्टर करने का काम एयर फिल्टर का होता है। Air Filter Suction Pipe Line में लगा होता है।air filter compressor hindi

यह compressor की लाइफ को बढ़ाकर रखने के लिए बहुत ही आवश्यक है। किसी किसी कंप्रेसर में आपको दोनों पाइप लाइनों के अंदर एयर फ़िल्टर देखने को मिल जाता है।

Discharge Pipe Line (डिस्चार्ज पाइप लाइन): इसका उपयोग सिलेंडर के अंदर आई हुई गैस को बाहर छोड़ना होता है। जो गैस सिलेंडर के डिस्चार्ज लाइन वाले पार्ट में आती है।

Suction Pipe Line (सक्शन पाइप लाइन): इसका उपयोग गैस को कम्प्रेसर के अन्दर लाना होता है। यह लाइन सिलेंडर के दूसरी तरफ होती है, वहां से यह गैस को अंदर लाती है फिर पिस्टन में भेजती है। सक्शन लाइन के बिना गैस अंदर नहीं आ सकती है।

compressor working in hindi

Piston: पिस्टन का उपयोग गैस को सेक्शन लाइन वाले पार्ट से डिस्चार्ज लाइन वाले पार्ट में ले जाना होता है। पिस्टन के प्रेशर की वजह से गैस जगह चेंज करती है। पिस्टन compressor का सबसे मुख्य होता होता है, इसलिए piston को compressor का दिल भी कहा जाता है।

Cylinder: कम्प्रेसर के सभी पार्ट्स सिलेंडर के अंदर ही लगे होते हैं। कंप्रेसर की डिस्चार्ज लाइन व सक्शन लाइन भी Cylinder के अंदर ही पिस्टन से जुडी होती है।

यह भी पढ़े- Gear क्या है और यह कितने प्रकार के होते है

Compressor कितने प्रकार के होते है

types of compressor hindi

वैसे तो compressor कई types के आते है, और इन सभी का उपयोग अलग अलग जगह पर जरुरत के अनुसार लिया जाता है। लेकिन आज मै आपको सबसे ज्यादा उपयोग होने वाले compressor types के बारे में बताऊंगा।

  1. Air Compressor (एयर कम्प्रेसर)
  2. Centrifugal Compressor( सेंट्रीफ्यूगल कंप्रेसर)
  3. Axial Compressor (एक्सेल कंप्रेसर)
  4. Rotary Compressor (Rotary कम्प्रेसर)

Air Compressor (एयर कम्प्रेसर): इसका उपयोग मुख्य रूप से गाड़ी साइकिल के टायरों में हवा भरने में होता है।

air compressor hindiएयर कंप्रेसर अक्सर पंचर की दुकानों पर देखने को मिलता है। इससे हम फुटबॉल, बास्केटबॉल, वॉलीबॉल व हैंडबॉल आदि में हवा भर सकते हैं।

Centrifugal Compressor (सेंट्रीफ्यूगल कंप्रेसर): इसका उपयोग उन जगह पर होता है। जहां पाइपलाइन Booster लगे होते हैं। इसका उपयोग ज्यादा High गैस लिफ्ट करने के लिए होता है। जहा high Volume और Low कंप्रेशन होता है, वहां इसका use होता है।Centrifugal Compressor hindi

Centrifugal Compressor सेंट्रीफ्यूगल फोर्स की मदद से एयर को कम्प्रेस करता है। यह low pressure air को high pressure air में बदलने के काम आता है।

Axial Compressor (एक्सेल कंप्रेसर): इसका काम air को कंप्रेस करके high pressure air बनाना होता है। इस Compressor में तीन पार्ट होते हैं रोटर, स्टेटर और डिफ्यूजर।Axial Compressor hindi

यह Compressor एयर की काइनेटिक एनर्जी को प्रेशर में कन्वर्ट करता है। इस वजह से ही हमें हाई प्रेशर एयर मिलती है। रोटर की वजह से एयर में काइनेटिक एनर्जी प्रोड्यूस होती है। स्टेटर इसे स्टैटिक प्रेशर में बदलता है। इस कंप्रेसर का डिजाइन डिफ्यूजर जैसा है। इसी वजह से यह हाई प्रेशर एयर रिलीज करता है।

Rotary Screw Compressor (Rotary स्क्रू कंप्रेसर): यह कंप्रेसर एक पॉजिटिव डिस्प्लेसमेंट कंप्रेसर होता है। यह हमें कांस्टेंट प्रेशर के एयर रिलीज करके देता है। इसकी suction line बड़ी होती हैं। यह डिस्चार्ज होते होते narrow जाते हैं।screw compressor hindi

इस कंप्रेसर का डिजाइन स्क्रू जैसा होता है इसलिए इसे Rotary Screw Compressor कहते हैं। यह एक सेफ कंप्रेसर है। इस कम्प्रेसर में air  सेक्शन लाइन की मदद से अंदर जाती है, फिर इसके स्क्रू डिजाइन की वजह से कांस्टेंट एयर प्रेशर में बदल कर बाहर निकलती है। और हमे high pressure compress air मिल जाती है।


तो दोस्तो उम्मीद है आज आपके Diesel Generator से जुड़े कई सवालो के जवाब मिल गए होंगे। अगर आपके अभी भी कोई सवाल इंजीनियरिंग से जुड़े है, तो आप हमे कमेन्ट करके जरूर बताये।

इंजीनियरिंग दोस्त (Engineering Dost) से जुड़ने के लिए आपका धन्यवाद। 🙂 

अगर आप इलेक्ट्रिकल की वीडियो हिन्दी मे देखना पसन्द करते है, तो आप हमारे YouTube Channel इलेक्ट्रिकल दोस्त को जरूर विजिट करे। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here