Chemical Earthing क्या है कैसे की जाती है

आज हम जानेंगे chemical earthing क्या है, यह earthing कैसे और कहा पर की जाती है। साथ ही chemical earthing करने के लिए कितने रुपए का खर्चा होता है वह भी जान लेंगे।

Chemical earthing क्या है

केमिकल अर्थिंग वो अर्थिंग है जिसमें हम कोयले और नमक का इस्तेमाल ना कर कर केमिकल पावडर का इस्तेमाल करते है। सामान्य अर्थिंग में हम इलेक्ट्रोड के ऊपर नमक और कोयला डालते हैं। पर केमिकल आर्थिक में ऐसा नहीं होता केमिकल अर्थिंग में इलेक्ट्रोड के ऊपर केमिकल पावडर डालते है।

Chemical Earthing working hindi

Chemical earthing में दो तरह के केमिकल पाउडर का इस्तेमाल होता है। पहला Carbon powder और दूसरा Bentonite powder होता है। Carbon powder काले रंग का होता है और bentonite powder brown Color का होता है। Carbon powder का इस्तेमाल normal जगह पर होता है जबकि Bentonite powder का इस्तेमाल ज्यादातर सुखी जगह पर किया जाता है।

यह भी पढ़े- Earthing क्या है और अर्थिंग कितने प्रकार से होती है

Chemical Earthing का उपयोग कहां होता है

अगर हम चाहे तो केमिकल अर्थिंग का उपयोग घरों में भी कर सकते है। केमिकल अर्थिंग का उपयोग हर जगह हो सकता है। पर कुछ ऐसी जगह होती है जहां सिर्फ केमिकल अर्थिंग ही की जानी चाहिए। उन जगहों पर कोयले और नमक वाले अर्थिंग का इस्तेमाल नहीं हो सकता है। जैसे कि पहाड़ी इलाके में सिर्फ केमिकल की जानी चाहिए। पथरीली जमीन वाली जगहों पर भी केमिकल अर्थिंग ही की जाती है।

साफ़ शब्दो में कहे तो कम नमी वाली जगहों पर हम केमिकल अर्थिंग का इस्तेमाल करते है।

Material used in Chemical earthing

केमिकल अर्थिंग करते समय कई मटेरियल का इस्तेमाल होता है, इनमे से मुख्य 7 मटेरियल के नाम इस प्रकार है।

  1. Earth Electrode (अर्थ इलेक्ट्रोड)
  2. Reducing socket (रीडियुसिंग सॉकेट)
  3. Funnel (फ़नल)
  4. G.I. Nut (G.I नट)
  5. Carbon powder/ Bentonite powder (कार्बन पाउडर/बेंटोनाइट पाउडर)
  6. S.W.G. Copper Wire (S.W.G तांबे का तार)
  7. तार की जाली

केमिकल अर्थिंग कैसे की जाती है?

केमिकल अर्थिंग करने के लिए सबसे पहले एक गड्ढा खोदते है। गड्ढा अर्थ इलेक्ट्रोड के साइज के अनुसार खोदते हैं। गड्ढा खोदने के बाद उसमे थोड़ा पानी का छिड़काव करते है।

earthing electrode in hindi इसके बाद गड्ढे के अंदर 40 से 50% गहराई मे केमिकल पाउडर डालते है। इसके बाद गड्ढे के अंदर अर्थ इलेक्ट्रोड को सेट करते है। अर्थ इलेक्ट्रोड का ऊपरी हिस्सा थोड़ा बाहर रहता है। ऊपरी हिस्से को बाहर इसलिए रखते है ताकि अर्थ वायर को कनेक्ट कर सके।

Chemical Powder Earthing

उसके बाद पूरे गड्ढे में केमिकल कंपाउंड या पाउडर डाल देते है। उसके बाद अर्थ इलेक्ट्रोड के reducing सॉकेट से अर्थ वायर को जोड़ देते है। रीडियूसिंग सॉकेट के साथ एक नट वेल्ड़ किया हुआ होता है नट में अर्थ वायर को जोड़ देते है। इसके बाद अब हम एक-दो दिन बाद अर्थिंग का इस्तेमाल कर सकते है।

यह भी पढ़े- earthing and grounding में क्या अंतर होता है

chemical earthing की कॉस्ट कितनी रहती है

केमिकल अर्थिंग की कॉस्ट निर्भर करती है हम कितनी गहरी अर्थिंग कर रहे है। अगर हम अर्थिंग खुद करते हैं तो इसकी कॉस्ट थोड़ी कम पड़ती है। अर्थिंग का केमिकल कंपाउंड 5000 से 6000 का पड़ता है, यह रेट 50 KG केमिकल कंपाउंड की है। chemical earthing के लिए अर्थ इलेक्ट्रोड 2000 से 3000 तक का पड़ता है। अगर आप GI अर्थ इलेक्ट्रोड लेने जाते हैं तो वह सस्ता पड़ता है। कॉपर का अर्थ इलेक्ट्रोड GI अर्थ इलेक्ट्रोड महंगा पड़ता है।

इस हिसाब से अगर आप खुद केमिकल अर्थिंग करते हैं तो 7000 से 8000 में आपका काम हो जाएगा। यही अगर आप किसी और कंपनी से कराते हैं तो आपको उससे करवाने के एक्स्ट्रा पैसे भी देने पड़ेंगे। इसके अलावा वह आपसे और भी पैसे कमाने की सोचेंगे और कहेंगे की हम यह अलग प्रकार के केमिकल पाउडर यूज करेगे इसलिए वह महंगा पड़ेगा।

इसलिए अगर आप खुद केमिकल अर्थिंग करते हैं तो 7000 से 8000 में आपका काम हो जाएगा लेकिन किसी कंपनी से कराई हुई केमिकल अर्थिंग आपको 10 हजार से 12 हजार तक पड़ेगी।

Chemical Earthing करने के फायदे

  1. It reduce resistivity of soil. (यह मिट्टी की प्रतिरोधकता को कम करता है।)
  2. Chemical earthing is maintenance free earthing. (केमिकल अर्थिंग में मेंटेनेंस की जरूरत नहीं होती है, इसलिए इसे हम मेंटेनेंस फ्री अर्थिंग भी कहते है)
  3. Chemical earthing is long life earthing. (केमिकल अर्थिंग लंबे समय तक चलती है)
  4. This performs in all weather conditions giving stable earth resistance values. (यह सभी मौसम में हमे स्थिर अर्थ रेजिस्टेंस देती है)


तो दोस्तो उम्मीद है आज आपके Chemical Earthing से जुड़े कई सवालो के जवाब मिल गए होंगे। अगर आपके अभी भी कोई सवाल इंजीनियरिंग से जुड़े है, तो आप हमे कमेन्ट करके जरूर बताये।

इंजीनियरिंग दोस्त (Engineering Dost) से जुड़ने के लिए आपका धन्यवाद। 🙂

अगर आप इलेक्ट्रिकल की वीडियो हिन्दी मे देखना पसन्द करते है, तो आप हमारे YouTube Channel इलेक्ट्रिकल दोस्त को जरूर विजिट करे।

1 COMMENT

  1. Belive me truest me this website Wonder full..this type I never seen my life ..wat a teacher of engineering dost ((massive respect sir & love u slots sir))

    Huge n huge ((up to infinity) terms respect u & your team …… .wonder full… Wonder full…….up to infinity …

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here