Carbon Brush क्या है इसे मोटर में क्यों लगाते है

आज की पोस्ट में हम जानेंगे Carbon Brush क्या है, मोटर में हम सिर्फ carbon brush का ही क्यों use क्यों करते है। Why only carbon brush is used in motor?

Carbon brush क्या है

Carbon brush किसी भी मोटर या जनरेटर के अंदर जो रोटर होता है उसमें करंट सप्लाई करने का काम करता है। सभी मोटर के अंदर एक स्टेटर और एक रोटर होता है स्टेटर एक जगह स्थिर रहता है। इसलिए उसमें करंट सप्लाई करना आसान होता है। परन्तु रोटर हमेशा घूमता रहता है तो अगर हम rotor से तार जोड़ते है तो वह तार टूट जाएगा, इसलिए हम कार्बन ब्रश का इस्तेमाल करते है।

carbon brush and commutator uses in hindi

कार्बन ब्रश रोटर से touch हो जाता है। Carbon brush directly rotor से connect नही होता है। Rotor के साथ एक commutator होता है। Commutator और कार्बन ब्रश आपस में कनेक्ट होता है। कार्बन ब्रश के कमयुटेटर के साथ रगड़ खाने की वजह से रोटर के अंदर करंट सप्लाई होता है।

carbon brush की परिभाषा

यह कार्बन से मिलकर बना एक ऐसा ब्रश है जिसका उपयोग किसी भी dc मोटर या जनरेटर के रोटर में करंट सप्लाई करने के लिए किया जाता है।

why only carbon brush used in motor hindi

Carbon brush का उपयोग कहा पर करते है

कार्बन ब्रश का उपयोग बहुत सी जगहों पर किया जाता है। जैसे कि Ac motor, Ac generator और Auto transformers मे इसका उपयोग किया जाता है। इसे हम हमारे घरों में भी देख सकते है, घरों के mixer, grinder मे भी देख सकते है। इसकी जरूरत हम आपको पहले ही बता चुके है, यह रोटर के अंदर करंट सप्लाई करने के लिए इस्तेमाल होता है।

यह भी पढ़े- AC Motor और DC Motor के मुख्य अंतर 

Why only carbon brush used in motor

Motor मे कार्बन के ही ब्रश का उपयोग क्यों किया जाता है, इसमें एलुमिनियम या कॉपर का इस्तेमाल क्यों नहीं होता है? इस सवाल के जवाब में कई कारण है।

1. Melting point of carbon is high- कार्बन ब्रश के इस्तेमाल होने का सबसे पहला कारण है की कार्बन का मेल्टिंग प्वाइंट high होता है। कॉपर का मेल्टिंग प्वाइंट कार्बन ब्रश से काफी कम होता है। Copper का melting point 1050° C होता है। इसका मतलब है कि अगर कॉपर पर 1050 डिग्री सेल्सियस की heat दी जाए तो वो पिघल जाएगा। लेकिन Carbon का melting point 3500 degree Celsius होता है।

carbon melting point and copper melting point

यहाँ पर हमे ज्यादा मेल्टिंग प्वाइंट वाला मटेरियल इसलिए चाहिए क्योंकि जब carbon brush commutator से रगड़ खाकर इलेक्ट्रिसिटी सप्लाई करता है। तो उस समय इन दोनों के बीच में काफी ज्यादा टेंपरेचर हो जाता है। इसके कारण हाई मेल्टिंग पॉइंट वाले मटेरियल का होना जरूरी है। अगर हम काॅपर का इस्तेमाल करेंगे तो वह पिघल जाएगा। और अगर कार्बन ब्रश का इस्तेमाल करेंगे तो ऐसा नहीं होगा।

2. Carbon is soft as compare to copper- कार्बन कॉपर से काफी ज्यादा सॉफ्ट होता है। उसके फायदे है कि जब कार्बन commutator से touch रहता है तो दोनो मे friction होता है। इसके कारण दोनों में से एक मटेरियल को नुकसान होता है। अगर हम यहा कार्बन ब्रश की जगह कॉपर का इस्तेमाल करता है तो कॉपर के सख्त होने की वजह से commutator को बहुत नुकसान पहुँचता है।

working of carbon brush hindi

अगर यही हम कार्बन ब्रश का इस्तेमाल करेंगे तो commutator कि जगह कार्बन ब्रश को ज्यादा नुकसान पहुँचता है। यही तो हम चाहते हैं कि कमयुटेटर को नुकसान ना पहुंचे क्योंकि commutator कार्बन ब्रश से बहुत ज्यादा महंगा आता है। नुकसान तो दोनों में से एक को पहुँचना ही है। पर अगर कार्बन ब्रश को नुकसान पहुँचता है। तो हम नया कार्बन ब्रश ला सकते है, यह हमें कम कीमत में पड़ेगा। अगर यही नुकसान कॉमेंटेटर को पहुँचेगा, तो हमें कमयुटेटर ज्यादा कीमत में मिलेगा। इसलिए हम कॉपर की बजाए कार्बन का उपयोग करते है।

3. Negative temperature co-efficient of resistance- दोस्तो कार्बन की एक अलग प्रॉपर्टी होती है। जब कार्बन का टेंपरेचर ज्यादा होता है तो उसका रेसिस्टेंस कम हो जाता है। जैसा की हमे पता है की जब कार्बन ब्रश और commutator मे फ्रिक्शन होता है तो टेंपरेचर काफी ज्यादा बढ जाता है।

why we use carbon brush in hindi

और यहाँ पर कार्बन की खास बात यही है की अगर टेंपरेचर ज्यादा होगा तो कार्बन ब्रश का रेजिस्टेंस और कम हो जाएगा। इसका हमें बहुत फायदा मिलता है क्योंकि रेसिस्टेंट कम होता है, तो करंट flow होने में आसानी होती है। अगर करंट आसानी से सप्लाई होगा तो रोटर को चलने में भी कोई दिक्कत नहीं आएगी। कार्बन की इस प्रॉपर्टी की वजह से हमें बहुत फायदा मिलता है।

4. Carbon is self lubricating- कार्बन जो होता है वो खुद लुब्रिकेट हो जाता है। लुब्रिकेटिंग का मतलब है हमारे मोटर के अंदर जो बैरिंग लगे होते हैं उसमें ऑयल या ग्रीस डालकर उसे लुब्रिकेट करना पड़ता है। लेकिन कार्बन ब्रश को लुब्रिकेट करने की कोई जरूरत नहीं होती है। कार्बन के ब्रश की हमे काफी कम मेंटेनेंस की जरूरत होती है।

यह भी पढ़े- Induction Motor क्या है, इससे जुड़े जरूरी सवाल

कार्बन ब्रश से जुड़े कुछ अन्य सवाल

Q. Does only the carbon brush is used in motor? (क्या सिर्फ कार्बन ब्रश ही मोटर में यूज होता है)

Ans. हां दोस्तों सिर्फ कार्बन ब्रश है मोटर में यूज होता है पर यह छोटी मोटर में यूज होता है। जो बड़े साइज की मोटर होती है उसमें कार्बन के साथ-साथ कार्बन ग्रेफाइट ब्रश यूज़ होता है।

Q. Carbon brush price (कार्बन ब्रश की कीमत)

Ans. Generator में इस्तेमाल होने वाला कार्बन ब्रश 25 से 35 रूपये तक मार्केट में मिल जाता है। मोटर में यूज होने वाला कार्बन ब्रश हमें 15 से 20 रूपये तक मार्केट में मिल जाता है।

Q. How long should carbon brush last? (कार्बन ब्रश कितने समय तक चलना चाहिए)

Ans. Carbon brush 1 साल से 5-7 साल तक चलता है। कमयुटेटर के साथ रगड़ खाने की वजह से यह कई बार जल्दी भी खराब हो जाते है।

Q. Weight of carbon brush (कार्बन ब्रश का वजन)

Ans. इसका एक फिक्स जवाब दे पाना मुश्किल है क्युकी कार्बन ब्रश की साइज और वजन मशीन और जरूरत के अनुसार बदलता है, फिर भी हम ज्यादातर उपयोग होने वाले नॉर्मल छोटे कार्बन ब्रश की बात करे तो इनका वजन 10 से 30 ग्राम का होता है।


तो दोस्तो उम्मीद है आज आपके carbon brush से जुड़े कई सवालो के जवाब मिल गए होंगे। अगर आपके अभी भी कोई सवाल इंजीनियरिंग से जुड़े है, तो आप हमे कमेन्ट करके जरूर बताये।

इंजीनियरिंग दोस्त (Engineering Dost) से जुड़ने के लिए आपका धन्यवाद। 🙂

अगर आप इलेक्ट्रिकल की वीडियो हिन्दी मे देखना पसन्द करते है, तो आप हमारे YouTube Channel इलेक्ट्रिकल दोस्त को जरूर विजिट करे।

7 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here