ABS System in Hindi – एबीएस क्या है कैसे काम करता है

What is ABS System

ABS System क्या होता है?

ABS system (एबीएस सिस्टम) का पूरा नाम एन्टी लॉक ब्रैकिंग सिस्टम (Anti Lock Braking System) होता है। ओर यह सिस्टम कार व बाइक के wheel (टायर) को जाम होने से बचाता है। इस system (प्रणाली) में जब आप अचानक से अपनी गाड़ी के ब्रेक दबाते है या फिर कभी अचानक से गाड़ी को रोकने का प्रयास करते है, तो आपकी गाड़ी dis-balance (अन-कंट्रोल) नही होती है। आप आसानी से गाड़ी को कण्ट्रोल कर पाते है।

Anti lock braking system working

एन्टी लॉक ब्रैकिंग सिस्टम की कार्यविधि

ABS यह कई पार्टस को मिलाकर बनाया जाता है। यह एक system(प्रणाली) की तरह काम करता है। ABS System मे कई प्रकार के सेंसर लगे होते है। जिसमे एक सेंसर आपकी गाड़ी के पहियों पर लगातार नजर बनाए रखता है, ओर फिर टायर्स से मिलने वाले डेटा को एनालाईज करने के लिए कंटोल यूनिट को भेज देता है। वहाँ भेजे जाने वाले डेटा मे अपनी गाड़ी की speed(गति) बदलाव जैसी चीजे शामिल होती है।

what-is-abs-system-in-hindi-engineering-dost

अब जब भी आप आपकी गाड़ी के ब्रेक दबाते है। तो ABS System को यह पता चल जाता है की आपकी गाड़ी का कोनसा पहिया किस गति से या कितनी तेज़ी से धीमा हो रहा है। इस प्रकिया को deceleration कहा जाता है। फिर यहाँ से valve(वाल्व) का काम शुरू होता है जो कि ज्यादा तेजी से धीमें होने वाले पहिये पर ब्रेक के प्रेशर को कम करता है। जिसके कारण सभी पहियों की गति एक समान हो जाती है, इस तरह एन्टी लॉक ब्रैकिंग सिस्टम दुर्घटना से बचने मे मदद करता है।

ABS System parts name & working

ABS के पार्ट्स नाम और वर्किंग

abs-parts-name-in-hindi-engineering-dost

  1. Speed sensor (स्पीड सेंसर)
  2. Valve (वाल्व)
  3. Electronic control unit (इलेक्ट्रॉनिक कंट्रोल यूनिट)
  4. Hydraulic control unit (हाइड्रोलिक कन्ट्रोल यूनिट)

Speed sensor (स्पीड सेंसर)

ABS सिस्टम मे स्पीड सेन्सर हर एक पहिये की गति को लगातार मोनिटर करता रहता है ओर सभी टायर्स की गति में तेजी (acceleration) ओर गति का धीमापन (deceleration) को निधारित करता है।

Electronic control unit

Sensor पर उत्प्रेरक रहता है मतलब एक रिंग होती है(ABS Reluctor Ring) जिसकी डिजाईन V Shape में दाँतो के जैसी दिखने वाली होती है, जिसके सामने सेंसर के आने से इलेक्ट्रॉनिक पल्स जनरेट होता है।

Valve (वाल्व)

वाल्व एन्टी लॉक ब्रैकिंग सिस्टम का एक महत्वपूर्ण पार्ट होता है। जब ABS एक्टिवेट होता है तब वाल्व ब्रेक में Air Pressure मतलब की वायु दबाव पर नियंत्रित करता है। गाड़ी की हर एक ब्रेक वाल्व से जुड़ी होती है ओर हर valve(वाल्व) को ABS कन्ट्रोल करता है। 

पहली बार में ब्रेक के वाल्व खुले रहते है ओर Pressure (वायु दबाव) मुख्य सिलेन्डर से ब्रेक की ओर जाता है। दूसरी बार में ब्रेक के वाल्व बंद रहते है। ओर मुख्य सिलेन्डर में pressure (दबाव) से स्थिर रहता है। तीसरी बार में वाल्व थोड़ा सा pressure (दबाव) बनाये रखता है। ओर आखिरी वाला स्टेप बार बार चलता रहता है। जब तक कार बाइक रुक नही जाती है।

Electronic control unit (इलेक्ट्रॉनिक कंट्रोल यूनिट)

abs-esu-electronic-control-unit-engineering-dost

इलेक्ट्रॉनिक कंट्रोल यूनिट ABS System का एक पार्ट होता है। ओर इसे एन्टी लॉक ब्रैकिंग सिस्टम का Control Unit (कण्ट्रोल यूनिट) भी कहते है। इस कण्ट्रोल यूनिट का काम सेंसर से आने वाले सिगनल को receive करना और बाद मे उन signal को Amplified करता है। उसके बाद में उन सिगनल को Filter करता है। 

Hydraulic control unit ( हाइड्रोलिक कन्ट्रोल यूनिट)

abs-break-bike-unit

Anti lock Condition एंटी-लोक कंडीशन के वक्त हाइड्रोलिक कन्ट्रोल यूनिट इलेक्ट्रॉनिक कंट्रोल यूनिट से signal को receive मतलब प्राप्त करता है। उन सिग्नल के अनुसार कभी कभी ब्रेक को छोड़ता है। व कभी कभी ब्रेक पर दबाव बनाता है। हाइड्रोलिक कन्ट्रोल यूनिट हाइड्रोलिक प्रेशर को कम ज्यादा करके ब्रेकिंग सिस्टम को नियंत्रित करता है।

ABS system benefits

एबीएस सिस्टम  के फायदेabs system benifiets in hidni abs break engineering dost

  1. कार दुर्घटना के दौरान स्टीयरिंग को आसानी से कंट्रोल किया जा सकता है।
  2. दुघर्टना होने से पहले गाड़ी को काबू किया जा सकता है।
  3. कार व बाइक फिसलने की संभावना कम हो जाती है।
  4. कार के ब्रेक पूरी तरह से आपके कन्ट्रोल में रहते है।
  5. गाड़ी कोई भी वस्तु के टकराने से पहले रुक जाती है।
  6. दुर्घटना होने के दौरान ब्रेक दबाने से गाड़ी के पहिये कभी लॉक नही होते है। 
  7. A.B.S वाली गाड़िया काफी सुरक्षित रहती है।

यह भी पढ़े(Also Read):-

तो दोस्तो उम्मीद है, आज आपके Why we use Strips on AC Motor से जुड़े कई सवालो के जवाब मिल गए होंगे। अगर आपके अभी भी कोई सवाल इंजीनियरिंग से जुड़े है, तो आप हमे कमेन्ट करके जरूर बताये।

इंजीनियरिंग दोस्त (Engineering Dost) से जुड़ने के लिए आपका धन्यवाद। 🙂 

अगर आप इलेक्ट्रिकल की वीडियो हिन्दी मे देखना पसन्द करते है, तो आप हमारे YouTube Channel इलेक्ट्रिकल दोस्त को जरूर विजिट करे।

2 COMMENTS

  1. Sir plz aapse ek request hai ki aap machanical SE related ye theory post Karo na sir plz Mai macahnical field se hi isliye aapse bol Raha hau aapki bahut badi help ho Jaye gi sir plz.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here