Three Phase Induction Motor in Hindi । इंडक्शन मोटर

आज हम जानेंगे की थ्री फेज इंडक्शन मोटर क्या होती है। और इसमें कौन कौनसे जरूरी पार्ट्स होते है। इसी के साथ में हम Induction motor कितने प्रकार की होती है यह भी जान लेंगे। Three Phase Induction Motor In Hindi

What is Motor (मोटर क्या होती है)

दोस्तों मोटर एक मशीन होती है, जो इलेक्ट्रिकल एनर्जी को मैकेनिकल एनर्जी में कन्वर्ट करती है।

motor-working-engineering-dost

थ्री फेज इंडक्शन मोटर मे हम जो मोटर के टर्मिनल बॉक्स मे इलेक्ट्रिकल सप्लाई देते है वो हमारी इलेक्ट्रिकल एनर्जी होती है, उस इलेक्ट्रिकल एनर्जी की वजह से मोटर के अंदर मैगनेट बनता है। यह मैगनेट बनने की प्रकिया को म्यूच्यूअल इंडक्शन (Mutual Induction) कहा जाता है। और रोटर घूमने लगता है, और रोटर के घूमने पर हमे जो एनर्जी मिलती है, वो मैकेनिकल एनर्जी होती है।

जनरेटर क्या होता है-  अगर हम इसी को उल्टा कर दे मतलब कोई ऐसा डिवाइस जिसके अंदर हम इनपुट में मेकेनिकल एनर्जी देते है, और वह आउटपुट मे हमको इलेक्ट्रिकल एनर्जी देता है। तो वह डिवाइस जनरेटर कहलाता है।

motor-vs-genrator-in-hindi-engineering-dost

जनरेटर और मोटर के बीच मे सिर्फ यही अन्तर होता है।

Motor Important Parts

मोटर मे सबसे मुख्य 2 पार्ट होते है।

  1. Stator (स्टेटर)
  2. Rotor (रोटर)

three phase induction motor stator rotor in hindi engineering dost

मोटर के अंदर का वह पार्ट जो मोटर के चलने पर भी नही घूमता  है, उसको हम स्टेशनरी पार्ट्स (Stator) कहते हैं। 

और मोटर के अंदर का वह भाग जो मोटर के चलने पर घूमता है, वह रोटेशन पार्ट कहलाता है, उसे ही रोटर (Rotor) कहा जाता है।

Induction Motor Working

इंडक्शन मोटर कैसे काम करती है?

मोटर में जब हम इलेक्ट्रिकल सप्लाई देते हैं तब वह सप्लाई मोटर के स्टेटर(Stator) पर करी गयी वाइंडिंग पर जाती है और म्यूच्यूअल इंडक्शन की वजह से मोटर की वाइंडिंग के पास कुछ मैगनेट उत्पन होता है।

उस मैगनेट के सामने जब रोटर आता है तो रोटर पर एक धक्का मतलब टार्क लगता है जिससे हमारा रोटर घूमने लगता है।

Rotor (रोटर) को दो भागो में विभाजीत किया जाता है।

एक तरफ जहा हम ड्राइव कनेक्ट करते है मतलब हमारा जो भी लोड है उसको जोड़ते है। उस पार्ट को मोटर का ड्राइव एंड(Drive End) कहते है।

Drive end and NON Drive end Motor

ओर रोटर के दूसरी साइड कूलिंग फैन लगा होता है, उसे हम मोटर का नॉन ड्राइव एन्ड(Non Drive End) कहते है।

Why Cooling Fan Important

कूलिंग फैन क्यों जरूरी है?

कूलिंग फैन का काम होता है की मोटर की बॉडी पर जो नालीदार पट्टी होती है, जिनको हम फ्रेम स्लॉट (Frame Slot) कहते हैं, उसके अन्दर हवा को भेजना। जिससे मोटर को कूलिंग मिलती है। यह मोटर के लिए काफी जरूरी होता है।

क्योंकि जब मोटर बहुत देर तक चलती रहती है तब मोटर के स्टार्टर पर जो कॉपर वाइंडिंग होती है। उनमे करंट भी फॉलो होता रहता है, जिसकी वजह से काफी लॉसेस होते हैं और मोटर गर्म होती है।

ac-motor-colling-with-fan-hindiऐसे में मोटर को कूलिंग देने के लिए ही नॉन ड्राइव एंड पर एक पंखा(Cooling Fan) लगाया जाता है, जिसका काम मोटर की फ्रेम पर हवा देकर मोटर को गर्म होने से बचाना होता है। 

Three Phase Induction Motor Types

 इंडक्शन मोटर दो प्रकार की होती है।

  1. Squirrel Cage Induction Motor (स्क्वीररेल केज इंडक्शन मोटर)
  2. Slip Ring Induction Motor (स्लिप रिंग इंडक्शन मोटर)

Squirrel Cage Induction Motorयह सबसे ज्यादा उपयोग होने वाली AC मोटर है। इसका फायदा यह है कि इसकी वर्किंग काफी सिम्पल होती है। ओर बहुत जरूरी बात इसमे बार बार मान्टिनेंस की जरूरत नही पड़ती है।

three phase induction motor stator rotor in hindi engineering dost 1पर इस मोटर में भी हमको एक कमी मिलती है। स्क्वीररेल केज इंडक्शन मोटर का उपयोग हम सिर्फ उस जगह ही कर सकते है, जहां पर हमे शुरुवाती समय में ज्यादा टार्क मतलब ज्यादा ताकत की जरूरत नही पड़ती हो।

Slip Ring Induction Motor स्लिप रिंग इंडक्शन मोटर में एक एक्स्ट्रा पार्ट होता है जिसे हम स्लीपिंग कहते है।

ac-slip-ring-induction-motor-hindiइसका फायदा यह है कि आप इस मोटर के साथ स्टार्टिंग मे भी हैवी टॉर्क वाला लोड भी जोड़ सकते हो।

Squirrel Cage and Slip Ring Motor Difference

(स्क्वीररेल केज और स्लिपरिंग मोटर मे अन्तर)

इनमे सिर्फ इतना अंतर है की Squirrel Cage इंडक्शन मोटर पर आप एक्स्ट्रा रेजिस्टेंस को नहीं जोड़ सकते। पर स्लिप रिंग इंडक्शन मोटर पर अगर आपको स्टार्टिंग समय मे ज्यादा टार्क मतलब ज्यादा ताकत की जरूरत है तो आप उस समय स्लिप रिंग की मदद से एक्स्ट्रा रेजिस्टेंस को ऐड कर सकते हैं।

ac-motor-type-slip-ring-motor

सबसे बड़ा तो अंतर यही है कि स्लीपिंग मोटर में हम रोटर के साइड में रजिस्टेंस को ऐड कर सकते हैं, आप जितना ज्यादा रेजिस्टेंस ऐड करेंगे उतनी ज्यादा आपको स्टार्टिंग में ज्यादा टॉर्क मिलेगा।

slipring-induction-motor-rotor-working-in-hindi

यह फायदा स्क्विरल केज मोटर में इसलिए नहीं होता है क्युकी इसके रोटर का जो एंड रिंग्स होता है। 

क्युकी वह शुरू से ही परमानेंटली शार्ट होता है। इसलिए हम रोटर सर्किट पर रेजिस्टेंस ऐड नहीं कर सकते।

तो दोस्तों जहां भी हमको ज्यादा स्टार्टिंग टॉर्क की रिक्वायरमेंट है वहां पर हम स्लीपिंग इंडक्शन मोटर का उपयोग करेंगे और जहां हमको नार्मल स्टार्टिंग टॉर्क की जरूरत है, वहां हम स्क्विरल केज इंडक्शन मोटर उपयोग करेंगे।


Also Read (यह भी पढ़े)
नेमप्लेट की नेमप्लेट को पढ़ना सीखे। 
Transformer के पार्ट्स के नाम और उनके कार्य

तो दोस्तो उम्मीद है आज आपके Three Phase Induction Motor से जुड़े कई सवालो के जवाब मिल गए होंगे, अगर आपके कोई सवाल इलेक्ट्रिकल से जुड़े है तो आप हमे कमेन्ट करके जरूर बताये।

इंजीनियरिंग दोस्त (Engineering Dost) से जुड़ने के लिए आपका धन्यवाद। 🙂 

अगर आप इलेक्ट्रिकल की वीडियो हिन्दी मे देखना पसन्द करते है, तो आप हमारे YouTube Channel इलेक्ट्रिकल दोस्त को जरूर विजिट करे।

12 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here